11 e0a4b0e0a581e0a4aae0a4afe0a587 e0a4aee0a587e0a482 e0a4abe0a4bfe0a4b2e0a58de0a4ae e0a4aee0a587e0a482 e0a495e0a4bfe0a4afe0a4be e0a495
11 e0a4b0e0a581e0a4aae0a4afe0a587 e0a4aee0a587e0a482 e0a4abe0a4bfe0a4b2e0a58de0a4ae e0a4aee0a587e0a482 e0a495e0a4bfe0a4afe0a4be e0a495 1

नई दिल्ली: फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) सिर्फ एक्टर नहीं हैं, वे डायरेक्टर, सिंगर और टीवी होस्ट भी हैं. मशहूर गीतकार जावेद अख्तर के बेटे होने के बावजूद उनका अपना एक संघर्ष रहा है. वे युवाओं के रोल मॉडल हैं. वे आज 9 जनवरी को अपना 49वां जन्मदिन मनाने जा रहे हैं.

फरहान अख्तर ने जब फिल्मों में कदम नहीं रखा था, तब उनकी मां उनके करियर को लेकर काफी चिंतित रहती थीं. उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई बीच में छोड़ दी थी. कहते हैं कि फरहान की मां हनी ईरानी ने उनसे कहा था कि अगर वे जिंदगी में कुछ नहीं कर पाए, तो वे उन्हें घर में रहने नहीं देंगी. मां की धमकी का फरहान पर ऐसा असर हुआ कि वे पिता जावेद की तरह पटकथा लेखक बन गए और ‘दिल चाहता है’ जैसी शानदार फिल्म की कहानी लिख डाली. उन्होंने इसे डायरेक्ट भी किया था. फिल्म नेशनल अवॉर्ड जीतने में कामयाब रही थी.

उन्हें फिल्मों में काफी रुचि है. कहते हैं कि उन्होंने ‘शोले’ करीब 50 बार देखी थी. उन्हें लगता था कि ‘शोले’ और भी बेहतर बन सकती थी, इसके मुकाबले उन्हें अमिताभ बच्चन की ‘दीवार’ ज्यादा पसंद आई थी. सुपरहिट फिल्म ‘रंग दे बसंती’ के लिए फिल्म निर्माताओं ने पहले फरहान से संपर्क किया था. अगर उन्होंने ‘हां’ कर दी होती, तो शायद वे आमिर खान वाला रोल निभाते. फिल्म ‘दम मारो दम’ के लिए फरहान को अप्रोच किया गया था, पर उनके मना करने के बाद राणा दग्गुबाती ने लीड रोल निभाया.

‘भाग मिल्खा भाग’ से बढ़ी लोकप्रियता
‘भाग मिल्खा भाग’ फरहान अख्तर की सबसे यादगार फिल्मों में से एक है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक्टर ने फिल्म में लीड रोल निभाने के लिए सिर्फ 11 रुपये फीस के तौर पर लिए थे. फिल्म ‘तूफान’ में भी उन्होंने एक खिलाड़ी का रोल निभाया था, पर फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं दिखा पाई थी. वे फिल्म ‘जी ले जरा’ से डायरेक्शन में वापसी करेंगे, जिसमें प्रियंका चोपड़ा, आलिया भट्ट और कैटरीना कैफ अहम रोल निभाती नजर आएंगी.