12 e0a4b8e0a4bee0a4b2 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a587 e0a4abe0a587e0a4b2 e0a4b9e0a58b e0a497e0a488 e0a4a5e0a580e0a482 e0a4aee0a4b9e0a4bfe0a482
12 e0a4b8e0a4bee0a4b2 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a587 e0a4abe0a587e0a4b2 e0a4b9e0a58b e0a497e0a488 e0a4a5e0a580e0a482 e0a4aee0a4b9e0a4bfe0a482 1

हाइलाइट्स

महिंद्रा ने काइनेटिक मोटर को खरीदने के बाद टू-व्हीलर सेगमेंट में एंट्री की थी.
महिंद्रा की पहली दोनों बाइक उस समय के हिसाब से मॉडर्न फीचर्स से लैस थीं.
ये बाइक मार्केट में कुछ खास परफॉर्म नहीं कर पाईं. कंपीन ने बनाना बंद कर दिया.

महिंद्रा आज भारत में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के SUV, फार्मिंग और कमर्शियल व्हीकल सेगमेंट में राज करने वाली कंपनी है. इसकी महिंद्रा स्कॉर्पियो, थार और बोलेरो जैसी गाड़ियां पूरे भारत में पॉपुलर हैं. एक वक्त था जब पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में सफल होने के बाद महिंद्रा ने टू-व्हीलर सेगमेंट में भी हाथ आजमाया था, लेकिन मोस्ट ट्रस्टेबल कंपनी होने के बावजूद इसकी बाइक्स लोगों को पसंद नहीं आई. कुछ सालों बाद महिंद्रा ने इस सेगमेंट से हाथ खींच लिया और मोटरसाइकिल का प्रोडक्शन बंद कर दिया.

आज यहां जानेंगे कि कैसे महिंद्रा टू-व्हीलर सेगमेंट में असफल रही. इसके पीछे क्या वजह थी. साथ ही बताएंगे कि आज के समय में महिंद्रा किस तरह से जावा और येज्दी बाइक के जरिए देश की प्रीमियम बाइक बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी रॉयल एनफील्ड को टक्कर दे रही है.

ये भी पढ़ें-  रतन टाटा इस बॉलीवुड एक्ट्रेस को दे बैठे थे दिल, अधूरा रह गया प्यार, इस वजह से नहीं हो पाई शादी

महिंद्रा ने लॉन्च की थीं कई बाइक
साल 2008 में महिंद्रा ने काइनेटिक मोटर को खरीदने के बाद टू-व्हीलर सेगमेंट में एंट्री की थी. इसके कुछ साल बाद महिंद्रा ने दो नई कम्यूटर बाइक सेंचुरो और पेंटेरो को लॉन्च किया. ये दोनों बाइक्स उस समय के हिसाब से कई मॉडर्न फीचर्स से लैस थीं. साथ ही ये बाइक्स सेगमेंट में काफी सस्ती भी थीं. इस सबके बावजूद यह मार्केट में कुछ खास परफॉर्म नहीं कर पाईं. आखिरकार महिंद्रा ने इस बाइक को बनाना बंद कर दिया. हालांकि कंपनी ने इनके बाद एक स्पोर्ट्स बाइक भी लॉन्च की, लेकिन वो भी कुछ खास कमाल नहीं कर पाई और इसका भी हाल पहली दो मोटरसाइकिलों की तरह हुआ. महिंद्रा ने यहां हार नहीं मानी और कई सारी बाइक्स लॉन्च की, लेकिन भारतीय बाजार को महिंद्रा की बाइक पसंद नहीं आई.

READ More...  सीरियल में 'किसान चाची' की दिखाई जा रही कहानी, हिम्मत और हौसला भरा है जीवन संघर्ष

ये भी पढ़ें- आम आदमी की पहली पसंद बनी ये सस्ती कार, माइलेज है 33 किमी से ज्यादा, कीमत बुलेट के बराबर

इस वजह से फेल हुई थी कंपनी
महिंद्रा के इस फेलियर के पीछे एक नई सारे कारण थे. इन बाइक्स में कई सारे टेक्निकल समस्याएं थी, जिन्हें महिंद्रा समय के साथ ठीक नहीं कर पाई. साथ ही खराब मार्केटिंग और एडवरटाइजिंग भी एक बड़ी वजह थी. अगर सबसे बड़ी वजह की बात करें तो वो थी महिंद्रा द्वारा किया गया गलत सेगमेंट का चुनाव. असल में कंपनी ने जिस कम्यूटर सेगमेंट बाइक उतारी थीं, उसमें पहले से ही हीरो, बजाज और होंडा जैसी कंपनियों को राज था. इसकी वजह से महिंद्रा की बाइक्स को लोगों के दिल में जगह नहीं मिल पाई. 2019 के आते-आते सड़कों से महिंद्रा की बाइक गायब होने लगी. बाद में कंपनी इस बिजनेस को बंद करने का फैसला किया.

अब फिर धूम मचा रही बाइक
देखा जाए तो टू-व्हीलर मार्केट में यह महिंद्रा का अंत नहीं था. अब की बार महिंद्रा और भी ज्यादा दमदारी के साथ वापस आई. हालांकि, कंपनी ने कम्यूटर सेगमेंट में नहीं, बल्कि बल्कि प्रीमियम बाइक सेगमेंट में कदम रखा. महिंद्रा ने इसके लिए अपने स्वामित्व वाली कंपनी क्लासिक लीजेंड के जरिए जावा, येज्दी और बीएसए से हाथ मिलाया. ये तीनों ही अपने समय के काफी पॉपुलर ब्रांड थे, जो इंडिया के गायब हो चुके थे. जावा और येज्दी बाइक को इंडिया में काफी पसंद किया जाता था. इसके चलते कंपनी ने इन बाइक्स को नए इंजन के साथ पुराने लुक में उतारने के फैसला किया. आज के समय में जावा और येज्दी मिलकर रॉयल एनफील्ड को कड़ी टक्कर दे रही हैं. दोनों कंपनियों की रोज हजारों बाइक बिकती हैं.

READ More...  यूपी विधानसभा के बाहर खुद को गोली मारकर सब इंस्पेक्टर ने की आत्महत्या, मुख्यमंत्री से की भावुक अपील

Tags: Bike, Bike news, Bike Review, Bullet Bike, Business news, Business news in hindi, Car Bike News, Mahindra and mahindra

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)