4 e0a4b9e0a49ce0a4bee0a4b0 e0a495e0a4bfe0a4aee0a580 e0a495e0a580 e0a4b8e0a4bee0a487e0a495e0a4bfe0a4b2 e0a4afe0a4bee0a4a4e0a58de0a4b0
4 e0a4b9e0a49ce0a4bee0a4b0 e0a495e0a4bfe0a4aee0a580 e0a495e0a580 e0a4b8e0a4bee0a487e0a495e0a4bfe0a4b2 e0a4afe0a4bee0a4a4e0a58de0a4b0 1

जबलपुर. जबलपुर की वंडर वुमैन लेडी डॉक्टर सीमा अग्रवाल फिर निकल पड़ी हैं. उनकी साइकिल चल पड़ी है. वो इस बार 4 हजार किमी की साइकिल यात्रा पर हैं. वो कश्मीर से कन्याकुमारी तक की दूरी साइकिल पर तय करेंगी. इस बार महिलाओं को वो संदेश देने निकली हैं. सफर लंबा और कठिन है लेकिन इरादे मजबूत हैं.

हौसले में अगर जान हो तो उड़ान आसान हो जाती है. जबलपुर की आयुर्वेदिक डॉक्टर सीमा अग्रवाल का यही हौसला उन्हें एक अनोखी यात्रा पर ले जा रहा है. डॉ सीमा इस बार जम्मू से कन्याकुमारी तक की यात्रा साइकिल से करने जा रही हैं. वो तीन बेटियों की मां हैं. लेकिन उम्र या थकान उन पर हावी नहीं. उनके हौसले ने डर और आलस सबको पस्त कर दिया है. डॉ सीमा अग्रवाल का यह जज्बा उन्हें फिर से इस बार एक लंबी साइकिल यात्रा पर ले जा रहा है.

कठिन सफर-नेक मकसद
डॉ सीमा जबलपुर से जम्मू के लिए रवाना हो गई हैं. वहां से उनकी साइकिल यात्रा 26 सितंबर से शुरू होगी. डॉ सीमा बताती हैं कि उन्होंने महिलाओं के सशक्तिकरण के मकसद से इस यात्रा को शुरू करने का फैसला लिया था. आज भी देश में महिलाएं घर की चारदीवारी में कैद होकर रह जाती हैं. घर हो या फिर बाहर महिला पुरुष की बराबरी की बात तो की जाती है. लेकिन आज भी देश में महिला और पुरुष बराबर नहीं हैं. हमेशा महिलाओं की शक्ति पर शक किया जाता है. इसलिए वह इस यात्रा को अकेले पूरा करने जा रही हैं. ताकि महिलाओं को संदेश दे सकें कि अगर एक अकेली महिला भी ठान ले तो उसके लिए हर काम आसान हो जाता है. उसके इस रास्ते पर कोई भी परेशानी नहीं आ सकती.

READ More...  खून से सने चेहरे और आंखों में चोट के साथ जब घर लौटीं निखत जरीन, मां बोलीं-कोई तुमसे शादी नहीं करेगा

ये भी पढ़ें-Shocking Crime : छात्र ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा-समलैंगिक दोस्त परेशान कर रहा था, उसे भी मार दिया

साइकिल से 43 सौ किलोमीटर का सफर
डॉ सीमा अग्रवाल जम्मू से कन्याकुमारी तक लगभग 43 सौ किलोमीटर का सफर साइकिल से तय करेंगी. इस दौरान वह सैकड़ों गांवों और शहरों को पार करेंगी. डॉ सीमा बताती हैं कि उन्होंने इसके पहले भी वो नर्मदा परिक्रमा और जबलपुर से बनारस तक साइकिल यात्रा कर चुकी हैं. लिहाजा उन्हें साइकिल यात्रा का पूरा अनुभव और रास्ते में आने वाली कठिनाइयों का अंदाज है. इस मौके पर महिला संगठनों ने भी डॉक्टर सीमा अग्रवाल का हौसला बढ़ाया. उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं दीं ताकि उनकी यात्रा सफल हो और महिलाओं को उनके सशक्तिकरण का संदेश मिल सके.

Tags: Cycle, Jabalpur news, Women Empowerment

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)