920 e0a495e0a4b0e0a58be0a4a1e0a4bc e0a4aee0a587e0a482 e0a4ace0a4a8e0a4be e0a4b9e0a588 e0a4aae0a58de0a4b0e0a497e0a4a4e0a4bf e0a4aee0a588
920 e0a495e0a4b0e0a58be0a4a1e0a4bc e0a4aee0a587e0a482 e0a4ace0a4a8e0a4be e0a4b9e0a588 e0a4aae0a58de0a4b0e0a497e0a4a4e0a4bf e0a4aee0a588 1

नई दिल्ली: लंबे इंतजार के बाद प्रगति मैदान की मुख्य सुरंग और 5 अंडरपास को जनता के लिए खोल दिया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को ‘प्रगति मैदान इंट्रीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर’ का लोकार्पण किया. प्रगति मैदान मेन टनल 1.6 किलोमीटर लंबी है. यह दिल्ली की पहली सुरंग है. इसके जरिए इंडिया गेट और सेंट्रल दिल्ली के अन्य क्षेत्र पूर्वी दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद से जुड़ गए हैं. सुरंग के साथ 5 अंडरपास भी इस प्रोजेक्ट का हिस्सा हैं.

आइए जानते हैं इस प्रोजेक्ट की कुछ अन्य खूबियों के बारें में…

1. प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना 920 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाई गई है और पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है.

2. प्रगति मैदान टनल नोएडा, गाजियाबाद और पूर्वी दिल्ली क्षेत्रों से यात्रा करने वाले मोटर चालकों को इंडिया गेट, सुप्रीम कोर्ट, मथुरा रोड तक सिग्नल-फ्री एक्सेस प्रदान करेगी.

3. यह सुरंग पुराना किला रोड पर भारत के राष्ट्रीय खेल परिसर (NSCI) के पास से शुरू होती है और पुनर्विकसित प्रगति मैदान के नीचे से गुजरती है और प्रगति पावर स्टेशन के पास रिंग रोड पर समाप्त होती है.

4. टनल में जलभराव की आशंका को दूर करने के लिए, बारिश के पानी को स्वचालित रूप से इकट्ठा करने और बाहर निकालने के लिए 7 भूमिगत पम्प्स का निर्माण किया गया है.

5. सुरंग का निर्माण कार्य मार्च 2018 में शुरू हुआ था और सितंबर 2019 तक पूरा होने वाला था. निर्माण कार्य में शामिल जटिलताओं के कारण इस समय सीमा को जून 2020 तक बढ़ा दिया गया था. बाद में COVID-19 लॉकडाउन के कारण इस प्रोजेक्ट के पूरा होने की समय सीमा को पहले दिसंबर 2020, फिर मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया था.

READ More...  West Bengal Elections: भाजपा में शामिल हुए दिनेश त्रिवेदी, कुछ दिनों पहले दिया था राज्यसभा से इस्तीफा

6. प्रगति मैदान टनल के अंदर करीब 100 सीसीटीवी कैमरे लगे होंगे, जिसके जरिए आवागमन पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी. इस सुरंग और 5 नए अंडरपास से आईटीओ क्षेत्र में यातायात की आवाजाही आसान होने के अलावा, पुनर्विकसित प्रगति मैदान से कनेक्टिविटी में भी सुधार होगा.

7. भैरों मार्ग पर सुरंग और अंडरपास से प्रगति मैदान के लिए डेडिकेटेड एंट्री एंड एग्जिट पॉइंट बनाए गए हैं. भारतीय संस्कृति को प्रदर्शित करने वाली वॉल पेंटिंग, पक्षियों के चित्र और कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश के विभिन्न हिस्सों में 6 मौसमों को प्रदर्शित करने वाली कलाकृतियां सुरंग की दोनों दीवारों पर उकेरी गई हैं.

8. इसके शुरू होने से आइटीओ, मथुरा रोड और भैरो मार्ग से प्रतिदिन गुजरने वाले दिल्ली-एनसीआर के करीब डेढ़ लाख लोगों को जाम से छुटकारा मिलेगा. टनल में तीन लेन आने और तीन लेन जाने के लिए हैं. इसके अंदर से आइटीपीओ की पार्किंग में आने-जाने के लिए भी रास्ता दिया गया है.

सुरंग के अलावा 5 अंडरपास, इन लोगों को मिलेगा लाभ

1. 440 मीटर काका नगर यू-टर्न अंडरपास- यह काका नगर का पहला अंडरपास है, जो लाजपत नगर की ओर से आकर निजामुद्दीन की ओर जाने के लिए है.

2. 440 मीटर सुंदर नगर यू-टर्न अंडरपास- जो भैरों मार्ग व चिड़ियाघर की ओर से आकर काकानगर, हाईकोर्ट की ओर जाने वालों के लिए है.

3. 380 मीटर पुराना किला के पास मटकापीर अंडरपास- इससे शेरशाह रोड से भैरों मार्ग व सुंदर नगर की ओर जाने वालों को लाभ मिलेगा.

4. 474 मीटर सुप्रीम कोर्ट अंडपास- इससे पुराना किला रोड और भगवानदास रोड की ओर से आने वाला यातायात भैरों मार्ग व चिड़ियाघर की तरफ जा सकेगा.

READ More...  राष्‍ट्रपति चुनाव: क्षेत्रीय दलों की भूमिका हो जाती है अहम, ऐसे कर सकते हैं प्रभावित

5. 540 मीटर भैरों मार्ग, रिंग रोड टी-जंक्शन अंडरपास- यह भैरों मार्ग से सराय काले खां बस अड्डा व एनएच 9 की ओर जाने वालों के लिए है. 300 मीटर भैरों मार्ग अंडरपास जो प्रगति मैदान पार्किंग में निकलेगा.

Tags: Delhi, PM Modi

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)