covid 19 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a495e0a587 e0a4b2e0a4bfe0a48f e0a49ae0a580e0a4a8 e0a49ce0a4bfe0a4a4e0a4a8e0a4be e0a497e0a482e0a4ad
covid 19 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a495e0a587 e0a4b2e0a4bfe0a48f e0a49ae0a580e0a4a8 e0a49ce0a4bfe0a4a4e0a4a8e0a4be e0a497e0a482e0a4ad 1

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की चिंता के बीच एक्सपर्ट्स की ओर से राहत की खबर मिली है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि कोरोना का BF.7 वेरिएंट भारत के लिए चीन जितना गंभीर नहीं होगा. सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के डायरेक्टर विनय के नंदीकूरी ने कहा कि, भारत में हर्ड इम्यूनिटी बन चुकी है इसलिए ओमिक्रॉन भारत के लिए बड़ा खतरा नहीं है.

हालांकि उन्होंने लोगों से कोविड अनुकूल व्यवहार करने की हिदायत दी है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि वायरस कभी भी इम्यूनिटी के कवच को तोड़ सकता है. नंदीकूरी ने कहा तेजी से फैलने वाले वेरिएंट से वैक्सीन लगवा चुके लोग भी संक्रमित हो सकते हैं और कभी कभी ये ओमिक्रॉन से पहले आ चुके वेरिएंट से भी संक्रंमित हो सकते हैं.

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘मौजूदा स्वरूप का संक्रमण उतना गंभीर नहीं है, जितना कि वायरस के ‘डेल्टा’ स्वरूप का संक्रमण हुआ करता था. ऐसा इसलिए है, क्योंकि हमारे पास एक हद तक ‘हर्ड इम्युनिटी’ है. वास्तव में हमारे पास ‘हर्ड इम्युनिटी’ है, क्योंकि हम अन्य वायरस के संपर्क में हैं.’’

भारत में अब तक चार केस आ चुके हैं सामने
मीडिया रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि भारत में कोरोना वायरस के बीएफ.7 स्वरूप के चार मामले सामने आ चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हमने (भारत) डेल्टा लहर देखी है, जो काफी गंभीर थी. हमने टीकाकरण किया है और फिर ओमिक्रोन लहर आई और हमने एहतियाती खुराक लगाना जारी रखा. हम कई मायनों में अलग हैं. चीन में जो हो रहा है, वह भारत में नहीं हो सकता है.’’

READ More...  PM मोदी ने पहली बार विदेश यात्रा के लिए नए वीवीआईपी एयरक्राफ्ट का किया इस्तेमाल

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि भारत में कोविड-19 के 201 नए मामले आए, जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 3,397 हो गई.

अधिकारी ने कहा कि चीन द्वारा अपनाई जाने वाली ‘‘शून्य कोविड नीति’’ देश में संक्रमण के तेजी से फैलने के मुख्य कारणों में से एक है. उन्होंने कहा कि टीकाकरण की कम दर ने भी वहां संक्रमण की गंभीरता को और बढ़ा दिया.

नंदीकूरी ने कहा, ‘‘भारत में टीकाकरण की दर अधिक है. बड़े पैमाने पर वृद्ध और अतिसंवेदनशील आबादी को एहतियाती खुराक भी दी गई है. हालांकि, इससे यह दावा नहीं किया जा सकता कि भारत में संक्रमण की कोई लहर नहीं आ सकती, लेकिन अभी ऐसा नहीं लगता है कि संक्रमण की कोई लहर तुरंत आ रही है.’’

Tags: Coronavirus, COVID 19

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)