covid 19 in india e0a495e0a58be0a4b0e0a58be0a4a8e0a4be e0a495e0a587 e0a4b9e0a4bee0a4b2e0a4bee0a4a4 e0a4aae0a4b0 e0a4b9e0a581e0a488 e0a4b9
covid 19 in india e0a495e0a58be0a4b0e0a58be0a4a8e0a4be e0a495e0a587 e0a4b9e0a4bee0a4b2e0a4bee0a4a4 e0a4aae0a4b0 e0a4b9e0a581e0a488 e0a4b9 1

नई दिल्ली. इस साल दिसंबर में एकत्र किए गए करीब 500 नमूनों की जीनोम सिक्वेंसिंग अभी देशभर में भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (INSACOG) प्रयोगशालाओं में की जा रही है. कुछ देशों में कोविड के मामले तेजी से बढ़ने के बीच एक शीर्ष सरकारी अधिकारी की अध्यक्षता में शनिवार को हुई उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक के दौरान सूत्रों ने यह जानकारी दी.

देश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करने और 22 दिसंबर की समीक्षा बैठक के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा जारी किए गए निर्देशों के अनुपालन के लिए वरिष्ठ अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पीके मिश्रा ने बैठक की अध्यक्षता की. इस बैठक के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने सूचित किया कि वाणिज्य मंत्रालय को चीन को औषधीय उत्पादों और उपकरण के निर्यात की निगरानी करने को कहा गया है.

ये भी पढ़ें- इन लोगों को है कोरोना संक्रमण का सबसे ज्‍यादा खतरा, विशेषज्ञों ने चेताया और दी सलाह

मिश्रा को चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, ब्राजील सहित कुछ देशों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने के चलते दुनिया भर में इस महामारी से उपजे हालात से अवगत कराया गया. यह सूचित किया गया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने 23 दिसंबर को कोविड-19 पर राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ डिजिटल माध्यम से हुई एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की थी. उन्होंने बताया कि मुख्य जोर कोविड से जुड़े व्यवहार के बारे में जागरूकता फैलाना, देशभर में जांच में तेजी लाने सहित निगरानी बढ़ाना, टीके की एहतियाती खुराक देने में तेजी लाने पर था.

READ More...  चीन को जर्मनी की दो टूक, कहा-भारतीय सीमा पर ये हरकत इंटरनेशनल लॉ के खिलाफ

इस दौरान यह भी सूचित किया गया कि प्रधानमंत्री के निर्देशों के मुताबिक, 27 दिसंबर को देशभर के अस्पतालों में मॉक ड्रिल की गई. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 21,097 अस्पतालों में मॉक ड्रिल की गई जिनमें 16,108 सरकारी संस्थान थे. वहीं करीब 1,716 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के यात्रियों पर नजर रखी गई और 5,666 नमूने कोविड-19 टेस्ट के लिए एकत्र किए गए.

ये भी पढ़ें- हॉस्पिटल में बेड खत्म, श्मशान में लाशों के ढेर! कोरोना से मौतों पर चीन का पर्दाफाश

बैठक में यह बताया गया कि पूर्व चेतावनी संकेत को जानने के लिए एसएआरआई, आईएलआई और इस तरह के रोगों के मामलों की निगरानी राज्यों में शुरू कर दी गई है. इसकी साप्ताहिक रिपोर्ट राज्यों द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजी जा रही है. यह बताया गया कि प्रधानमंत्री के निर्देशानुसार, संपूर्ण जीनोम सिक्वेंसिंग को मजबूत करने और देशभर से इन्साकॉग नेटवर्क को बड़ी संख्या में नमूने भेजे जा रहे हैं.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दिसंबर 2022 में करीब 500 नमूने एकत्र किए गए और देशभर की इन्साकॉग प्रयोगशालाओं द्वारा जीनोम सिक्वेंसिंग किया जा रहा है. अधिकारियों ने यह भी सूचित किया कि दवा की उपलब्धता का जायजा लेने और कोविड की दवा सहित सभी दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दवा कंपनियों के प्रतिनिधियों और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ 29 दिसंबर को एक बैठक की थी.

इस बैठक में कोविड वैक्सीनेशन की स्थिति की भी समीक्षा की गई और यह सूचित किया गया कि कोविड टीके की 220 करोड़ से अधिक खुराकें दी जा चुकी हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बैठक में मौजूद विशेषज्ञों ने टीकों पर अनुसंधान और भारत में उनके विनिर्माण पर चर्चा की. इसके अलावा, आयुष मंत्रालय ने इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के प्रति लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए परामर्श जारी किया है.

READ More...  गुजरात दंगों पर राजनीति से प्रेरित आरोप लगाने वालों को माफी मांगनी चाहिए: अमित शाह

Tags: Coronavirus, COVID 19, INSACOG

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)