explainer twitter meta e0a4aee0a587e0a482 e0a4b9e0a581e0a488 e0a49be0a482e0a49fe0a4a8e0a580 e0a495e0a4be e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4ad
explainer twitter meta e0a4aee0a587e0a482 e0a4b9e0a581e0a488 e0a49be0a482e0a49fe0a4a8e0a580 e0a495e0a4be e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4ad 1

नई दिल्ली. ट्विटर, मेटा और अमेजन के बाद अब Google की मूल कंपनी अल्फाबेट भी 10,000 से अधिक कर्मचारियों को निकालने की योजना बना रही है. एक नई रिपोर्ट के अनुसार, बिग टेक कंपनी ने कठिन वैश्विक आर्थिक परिस्थितियों के बीच अपने लगभग 6 प्रतिशत वर्कफोर्स को कम करने की योजना बनाई है. पिछले कुछ हफ्तों में दुनिया भर में हजारों कर्मचारियों को निकाल दिया और अब अल्फाबेट ने भी कर्मचारियों की छटनी का प्लान तैयार कर लिया है. ऐसे में भारतीय आईटी सेक्टर नई भर्ती करने के मूड में है.

आईटी सेक्टर आने वाले कुछ समय में कई लोगों की भर्ती करेगा. इंडस्ट्री रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय आईटी सेक्टर की कैपजेमिनी और इंफोसिस हायरिंग बिंज पर हैं.

ये भी पढ़ें: टाटा के हाथ लगते ही ‘राइट टाइम’ हो गई एयर इंडिया, 10 में 9 उड़ानें बिलकुल सही समय पर

एनालिटिक्स इनसाइट की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि कैपजेमिनी भारत में तकनीकी पेशेवरों की तलाश कर रही है और देश भर में उपलब्ध पदों के लिए आवेदन स्वीकार कर रही है. इसकी हायरिंग में फ्रेशर्स और लेटरल हायरिंग दोनों शामिल हैं. लेकिन इसके सीईओ ऐमन इज़्ज़त ने कहा कि वर्तमान बाजार परिस्थिति को देखते हुए हमें ओवर हायरिंग की आवश्यकता नहीं है.

इंफोसिस के कर्मचारियो का विरियेबल पेय जुलाई-सितंबर तिमाही में अप्रैल-जून तिमाही की अपेक्षा 70 फीसदी कम रहा. इस कम प्रतिशत के बारे में, कंपनी ने कहा कि भारतीय आईटी क्षेत्र में मंदी के साथ-साथ उच्च कर्मचारियों की कमी से गुजर रहा है. इन सबके बीच भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) के छात्र भारत के साथ-साथ विदेशों में भी शीर्ष कंपनियों में सर्वश्रेष्ठ पैकेज की तलाश कर रहे हैं जहां तकनीकी छंटनी जोरों पर है.

READ More...  Ola बनाएगी सस्ती इलेक्ट्रिक कार! कंपनी को फैक्ट्री के लिए जमीन की तलाश

ये भी पढ़ें: हमेशा कर्मचारियों को ‘सताते’ रहे हैं Elon Musk! टेस्‍ला में भी कई इम्‍पलॉयी हुए हैं उनके गुस्‍से का शिकार

News18 ने IIT दिल्ली के एक छात्र अभिजीत से बात की कि कैसे छंटनी ने भारत के हायरिंग सीजन को प्रभावित किया है. उन्होंने कहा कि एक फ्रेशर के दृष्टिकोण से काफी विपरित परिस्थिति है. इसके साथ ही मंदी भी दुनिया पर मंडरा रही है, इस प्रकार यूएस और यूके में स्थित स्टार्ट-अप फ्रेशर्स के लिए परेशानी पैदा करने वाले हैं. चूंकि भारत इस समय अच्छी स्थिति में है, इसलिए भारतीय स्टार्टअप शायद ये कदम नहीं उठा रहे हैं.’ हालांकि, अभिजीत के मुताबिक, अनुभवी लोगों को ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ सकता है, क्योंकि कई कंपनियां हायरिंग कर रही हैं और स्टार्ट-अप समेत कंपनियां अनुभवी लोगों को ही तलाश रही हैं.

ये भी पढ़ें: आज 11 फीसदी टूटे Paytm के शेयर, ऑल टाइम लो पर पहुंचे, जानिए क्‍यों इस स्‍टॉक से दूर हो रहे हैं निवेशक

गौरतलब है कि Google की मूल कंपनी अल्फाबेट ने अभी तक आधिकारिक तौर पर छंटनी की पुष्टि नहीं की है. लेकिन कुछ महीने पहले सीईओ सुंदर पिचाई ने आगामी छंटनी का संकेत दिया था. इससे पहले अमेजन ने छटनी की शुरुआत की. अमेजन में करीब 10, 000 कर्मचारियों की छंटनी शुरू हो गई है. जहां इस ले ऑफ का प्रभाव कॉर्पोरेट रैंक के कर्मचारियों पर पड़ेगा वहीं इस बीच कंपनी के सीईओ एंडी जेसी ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है. एक रिपोर्ट के अनुसार अमेजन के सीईओ का कहना है कि कर्मचारियों के छंटनी की ये प्रक्रिया अगले साल तक जारी रहने की उम्मीद है.

READ More...  बिक्री बढ़ाने के लिए Renault ने लिया TikTok का सहारा, बनी पहली कार कंपनी

Tags: Amazon, Business news in hindi, IT sector, Twitter

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)