gangnath temple e0a485e0a4b2e0a58de0a4aee0a58be0a4a1e0a4bce0a4be e0a495e0a4be e0a48fe0a495 e0a490e0a4b8e0a4be e0a4aee0a482e0a4a6e0a4bf

(रिपोर्ट- रोहित भट्ट)

अल्मोड़ा. गंगनाथ मंदिर (Gangnath Temple in Almora) अल्मोड़ा मुख्य शहर से करीब 10 किलोमीटर दूर है. प्राचीन काल का गंगनाथ मंदिर चट्टानों पर बना हुआ है. इस मंदिर में बाबा गंगनाथ, माता भानु और उनके पुत्र की प्राचीन प्रतिमाएं प्राण प्रतिष्ठित हैं. चारों ओर हरियाली से घिरे इस मंदिर में श्रद्धालुओं को अलग ही तरह की शांति की अनुभूति होती है. मंदिर की मान्यता है कि यहां आने वाले दंपतियों की संतान प्राप्ति की मनोकामना जरूर पूरी होती है.

गंगनाथ मंदिर में उत्तराखंड ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों और विदेशों से भी भक्त आते हैं. मंदिर के पुजारी दीपक लोहनी ने बताया कि बाबा गंगनाथ के आशीर्वाद से अनेकों दंपतियों को संतान सुख की प्राप्ति हुई है. वहीं नौकरी, शादी, परिवार में आपसी तनाव आदि समस्याओं को यहां लेकर आने वाले भक्त भी बाबा की दर से कभी खाली हाथ नहीं जाते हैं.

बाबा गंगनाथ ने पूरी की संतान की कामना
मंदिर में दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु दीपक कुमार ने बताया कि उन्होंने बाबा गंगनाथ की दर पर पुत्र की मनोकामना की थी. बाबा ने उनकी इच्छा पूरी की, तब से उनका विश्वास बाबा गंगनाथ के प्रति और मजबूत हो गया. उन्होंने बताया कि इस मंदिर में सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद पूरी होती है.

मन्नत पूरी होने पर भक्त चढ़ाते हैं वस्त्र
मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं की जब मन्नत पूरी हो जाती है, तो वे यहां बाबा गंगनाथ को धोती-कुर्ता, पगड़ी, बांसुरी, छत्र और भानु माता को वस्त्र और श्रृंगार की सामग्री चढ़ाते हैं. भानु माता के पुत्र को भक्त खिलौने चढ़ाते हैं. गंगनाथ मंदिर में जागर और भंडारा भी कराया जाता है.

READ More...  सार्वजनिक क्षेत्र में कोविद -19 परीक्षण के लिए जारी दिशानिर्देशों के बारे में सबसे ज्वलंत प्रश्न

कैसे पहुंचे गंगनाथ मंदिर?
अल्मोड़ा के गंगनाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको दो रास्ते मिलते हैं. पहला रास्ता धारानौला से होते हुए आपको यहां तक लाता है. दूसरा रास्ता एनटीडी से होते हुए भी आप इस मंदिर तक पहुंच सकते हैं.

Gangnath Temple in Almora

Tags: Almora News, Temple, Uttarakhand news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)