gold trading e0a4b8e0a58be0a4a8e0a587 e0a495e0a580 e0a49fe0a58de0a4b0e0a587e0a4a1e0a4bfe0a482e0a497 e0a4b9e0a58be0a497e0a580 e0a486e0a4b8
gold trading e0a4b8e0a58be0a4a8e0a587 e0a495e0a580 e0a49fe0a58de0a4b0e0a587e0a4a1e0a4bfe0a482e0a497 e0a4b9e0a58be0a497e0a580 e0a486e0a4b8 1

नई दिल्ली. सोने में ट्रेडिंग करना अब और आसान होने वाला है. Paper Gold में ट्रेडिंग करने वालों कारोबारियों लिए अच्छी ख़बर आई है. Electronic Gold Receipts में Trade करने पर ITC रिफंड नहीं अटकेगा. सूत्रों के मुताबिक EGR यानी Electronic Gold Receipts के जरिए निवेश और ट्रेडिंग को बढ़ावा देने के लिए वित्तमंत्रालय GST से जुड़े नियमों में ढील देने पर विचार कर रहा है.

बता दें कि इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसिप्ट से इस प्रीसियम मेटल प्रभावी और पारदर्शी कीमत का पता लगाने में मदद मिलेगी. EGR यानी इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसीप्ट अन्य सिक्‍योरिटीज जैसा ही होगा. इसकी ट्रेडिंग क्लियरिंग और सेटलमेंट भी दूसरी सिक्‍योरिटीज की तरह किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें: Indian Economy: अर्थव्यवस्था में आया लचीलापन, 2022-23 में 7% GDP की उम्मीद

अभी होता सिर्फ Gold ETF का कारोबार
अभी भारत में सिर्फ गोल्ड डेरिवेटिव्स और गोल्ड ईटीएफ का कारोबार होता है. इसमें गोल्ड कमोडिटी को सिक्योरिटी ईजीआर में कन्वर्ट करते हैं. जिसके पास फिजिकल गोल्ड का रिसपॉन्सिबल सोर्स है, वह उस गोल्ड को वोल्ट में जाकर जमा करवाएगा. वहां उसे इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसिट मिलेगी. जिसे वह एक्सचेंज पर खरीद-बिक्री के लिए रखेगा.

सोने की कीमत के आधार पर होगी ट्रेंडिंग
अब गोल्ड की कीमतों और डिमांड के आधार पर उसकी ट्रेडिंग होगी. एक्सचेंज पर निवेशकों को ये ईजीआर उपलब्ध होगी. जिस तरह निवेशक बीएसई पर शेयरों की खरीद-बेच करते हैं, वैसे ही गोल्ड की इन रिसिट की ट्रेडिंग कर सकेंगे. जहां निवेशकों को बाय-सेल करने के लिए डिलिवरी लेने की जरूरत नहीं है. निवेशक डीमैट अकाउंट में अपनी ये ईजीआर रख सकेंगे.

READ More...  अच्छी रीसेल वैल्यू के साथ आती हैं ये 5 कारें, सेकेंड हैंड बाजार में है सबसे ज्यादा मांग

ये भी पढ़ें: Tata ने मेटा-टि्वटर से निकाले गए कर्मचारियों की ओर बढ़ाया हाथ, कहा- हम देंगे नौकरी

बता दें कि मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) ने बीएसई को अपने प्लेटफॉर्म पर इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसीप्ट (EGR)) की शुरुआत करने की अनुमति दी थी. जिसके बाद बीएसई ने इसकी शुरूआत की. बीसई ने 95 और 999 शुद्धता के दो नए उत्पाद पेश किए हैं. ट्रेडिंग 1 ग्राम के मल्‍टीपल में और डिलिवरी 10 ग्राम व 100 ग्राम के मल्‍टीपल में होगी.

हरी झंडी का इंतजार
EGRs के जरिए ट्रेडिंग करने वालों को राहत मिलेगी. ITC रिफंड क्लेम के लिए Conversion तक इंतजार नहीं करना होगा. GST नियमों को लेकर SEBI के प्रस्ताव पर वित्त मंत्रालय विचार कर रहा है. वित्तमंत्रालय की हरी झंडी के बाद इसे अंतिम मंजूरी के लिए GST Council भेजा जाएगा. Gold Menetization को बढ़ावा देने के लिए SEBI ने EGRs में Trading की इजाजत दी है. BSE के बाद NSE भी जल्द EGRS में Trading की इजाजत दे सकता है.

Tags: Gold, Gold ETF, Gold investment

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)