indian crypto exchange e0a4a8e0a587 e0a485e0a4aae0a4a8e0a587 30 e0a4abe0a580e0a4b8e0a4a6e0a580 e0a4b2e0a58be0a497e0a58be0a482 e0a495e0a58b
indian crypto exchange e0a4a8e0a587 e0a485e0a4aae0a4a8e0a587 30 e0a4abe0a580e0a4b8e0a4a6e0a580 e0a4b2e0a58be0a497e0a58be0a482 e0a495e0a58b 1

मुंबई . इस समय क्रिप्टोकरेंसी का समय अच्छा नहीं चल रहा है. चाहे वो क्रिप्टो की कीमतों का मामला हो या क्रिप्टो मार्केट में काम रहे लोगों की बात. क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म वॉल्ड ( Vauld) ने अपने 30 फीसदी स्टॉफ को कम करने का निर्णय लिया है. इसके फाउंडर दर्शन बथिजा ने ट्वीट कर ये जानकारी दी. क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े दूसरे बिजनेस ने भी मार्केट में गिरावट की चलते अपनी वर्कफोर्स को कम किया है.

फाउंडर दर्शन ने ट्वीट किया कि हम जानते हैं कि बियर मार्केट में कंपनियों को लचीला बनाया जाता है. हमने पिछले क्रिप्टो विंटर मे वाल्ड की शुरुआत की थी. हम यहां तक इसलिए पहुंचे कि हमने अपने खर्चों को बहुत सावधानी से मैनेज किया. यह जरूरी उपाय हैं ताकि हम लॉन्ग टर्म में मजबूत हो सकें.

यह भी पढ़ें- क्रिप्टोकरेंसी मार्केट: बिटकॉइन, इथेरियम में गिरावट, शिबा इनु में जबरदस्त उछाल

क्रिप्टो कंपनियों की स्थिति बहुत अनिश्चित 
फाउंडर ने लेऑफ का कारण बताते हुए कहा कि मार्केट के साथ-साथ क्रिप्टो कंपनियों की स्थिति बहुत अनिश्चित है. कुछ मार्केट पार्टिसिपेंट्स के कुछ एक्शन की वजह से कस्टमर की आंखों में काफी अनिश्चितता आ गई है. दर्शन बथिजा और संजू कुरियन ने साल 2018 में वॉल्ड की स्थापना की थी. यह कंपनी यह अपने क्रिप्टो निवेशकों को ज्यादा से ज्यादा रिटर्न दिलाने के लिए काम करती थी.

195 करोड़ रुपए का फंड मिला 
जुलाई 2021 में, वॉल्ड ने पेपाल के संस्थापक पीटर थिएल के वेलर वेंचर्स के नेतृत्व में सीरीज़ ए फंडिंग राउंड में 25 मिलियन डॉलर यानी 195 करोड़ रुपए जुटाए. पनटेरा कैपिटल, कॉइनबेस वेंचर्स, सीएमटी डिजिटल, गुमी क्रिप्टोस, रॉबर्ट लेशनर और कैडेंज़ा कैपिटल जैसे निवेशकों ने भी फंडिंग राउंड में भाग लिया. वॉल्ड का मुख्यालय सिंगापुर में है, इसकी अधिकांश टीम भारत में है.

READ More...  आर्थिक विशेषज्ञों ने बताया महंगाई से कब तक मिलेगी राहत? कौन से उपाय होंगे प्रभावी ?

यह भी पढ़ें- कई आईटी स्टॉक 52 सप्ताह हाई से 50 फीसदी तक नीचे, लेकिन एक्सपर्ट की अभी भी buy की राय नहीं

इस समय क्रिप्टोमार्केट की हालत खस्ता है. क्रिप्टो मार्केट कैप एक लाख करोड़ डॉलर से नीचे आ गया है. इसके ट्रेडिंग वैल्यूम में भी काफी गिरावट देखने को मिल रही है. ज्यादा बड़ी क्रिप्टो करेंसी अपने हाई से 50 फीसदी से ज्यादा टूट चुकी हैं. ऐसे हालात में क्रिप्टो बिजनेस से जुड़ी कंपनियों की आर्थिक हालत भी खराब हो गई है. लिहाजा बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है.

Tags: Bitcoin, Cryptocurrency, Dogecoin, Job loss

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)