indian economy e0a485e0a4b0e0a58de0a4a5e0a4b5e0a58de0a4afe0a4b5e0a4b8e0a58de0a4a5e0a4be e0a4aee0a587e0a482 e0a486e0a4afe0a4be e0a4b2e0a49a
indian economy e0a485e0a4b0e0a58de0a4a5e0a4b5e0a58de0a4afe0a4b5e0a4b8e0a58de0a4a5e0a4be e0a4aee0a587e0a482 e0a486e0a4afe0a4be e0a4b2e0a49a 1

नई दिल्ली. मुद्रास्फीति में कमी के संकेत मिलने के साथ ही घरेलू स्तर पर अर्थव्यवस्था (Economy) में लचीलापन देखने को मिल रहा है, और चालू वित्त वर्ष के दौरान सात प्रतिशत की वृद्धि हासिल की जा सकती है. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के एक लेख में यह बात कही गई. लेख के मुताबिक मजबूती के बावजूद अर्थव्यवस्था अभी भी वैश्विक चुनौतियों के प्रति संवेदनशील है.

आरबीआई के ताजा बुलेटिन में प्रकाशित लेख में यह भी कहा गया कि वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में गिरावट का जोखिम बना हुआ है, वैश्विक वित्तीय स्थितियां सख्त होती जा रही हैं और बाजार की नकदी में कमी वित्तीय कीमतों में उतार-चढ़ाव को बढ़ा रही है.

ये भी पढ़ें: HDFC Bank ने FD पर बढ़ाईं ब्याज दरें, वहीं Axis बैंक ने महंगा किया लोन- जानें नए रेट

शहरी मांग हुई मजबूत
इसमें आगे कहा गया कि भारतीय अर्थव्यवस्था में आपूर्ति प्रतिक्रिया मजबूत हो रही है. लेख में कहा गया, ”सकल मुद्रास्फीति (हेडलाइन इंफ्लेशन) में कमी के संकेत दिखने के साथ ही घरेलू व्यापक आर्थिक परिदृश्य में मजबूती है, लेकिन यह वैश्विक चुनौतियों के प्रति संवेदनशील भी है.” लेख के मुताबिक शहरी मांग मजबूत दिखाई दे रही है, जबकि ग्रामीण मांग कमजोर है, लेकिन हाल ही में इसमें तेजी आई है.

लेख को आरबीआई के डिप्टी गवर्नर माइकल देवव्रत पात्रा के नेतृत्व में एक टीम ने तैयार किया है. आरबीआई ने कहा कि यह लेखकों की राय पर आधारित है तथा केंद्रीय बैंक के विचारों का प्रतिनिधित्व नहीं करता है. लेख के मुताबिक जीएसटी संग्रह, निर्यात जैसे प्रमुख आंकड़ों के आधार पर वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में 6.1 प्रतिशत से 6.3 प्रतिशत के बीच रह सकती है.

READ More...  Petrol Diesel Prices : क्रूड ऑयल की बढ़ती कीमतों के बीच पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, चेक करें अपने शहर का भाव

ये भी पढ़ें: HDFC Bank ने FD पर बढ़ाईं ब्याज दरें, वहीं Axis बैंक ने महंगा किया लोन- जानें नए रेट

भारत 2022-23 में लगभग 7% की वृद्धि दर हासिल करेगा
इसमें आगे कहा गया, ”अगर ऐसा होता है तो भारत 2022-23 में लगभग सात प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल करेगा. तीसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में आपूर्ति प्रतिक्रिया मजबूत हो रही है.” वित्त वर्ष 2022-23 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़े नवंबर के अंत तक जारी किए जाएंगे.

Tags: Economy, GDP, Indian economy

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)