indian railway e0a4afe0a4bee0a4a4e0a58de0a4b0e0a580e0a497e0a4a3 e0a4a7e0a58de0a4afe0a4bee0a4a8 e0a4a6e0a587e0a482 e0a485e0a4ac e0a4a6

गाजियाबाद. भारतीय रेलवे (Indian Railway) का गाजियाबाद (Ghaziabad) में देश का सबसे लंबा ऑटोमेटिक ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (Automatic Block Signaling System) बन कर तैयार हो गया है. इस सिस्टम के बन कर तैयार हो जाने के बाद अब दिल्ली (Delhi) से यूपी के गाजियाबाद (Ghaziabad), अलीगढ़, कानपुर, लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी, पटना (Patna), बरौनी और नॉर्थ-ईस्ट के कई शहरों की दूरी और समय में काफी कमी आएगी. साथ ही ट्रेनों के लेट होने की समस्या से भी निजात मिलेगा. प्रयागराज से गाजियाबाद तक 762 किलोमीटर रेल नेटवर्क स्वचालित ब्लॉक सिग्रलिंग सिस्टम के तहत काम करेगा. भारतीय रेलवे को इस तकनीक की मदद से ट्रैक की क्षमता, ट्रेनों की सुरक्षा और रफ्तार बढ़ाने में मदद मिलेगी.

बता दें कि गाजियाबाद के पंडित दीन दयाल उपाध्याय खंड में तैयार रेलवे का यह ऑटोमेटिक ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम देश का सबसे लंबा आटोमैटिक ब्लॉक सिग्नलिंग सेक्शन है. भारतीय रेलवे यात्रियों की सुविधा के लिए समय-समय बदलाव करता रहता है. अब रेलवे ने एक रूट पर ऑटोमेटिक ब्लॉक सिग्नल सिस्टम बना कर रिकॉर्ड बना दिया है. इससे एक पटरी पर ट्रेनों की संख्या और रफ्तार बढ़ाने में मदद मिलेगी. यह सिस्टम 762 किलोमीटर भारतीय रेल के नेटवर्क को जोड़ेगा. भारतीय रेल के मौजूदा उच्च घनत्व वाले मार्गो पर और अधिक रेलगाडियां चलाने के लिए उसकी क्षमता बढ़ाने के लिए स्वचालित ब्लॉक सिग्नलिंग एक किफायती उपाय है.

indian railways, railways, trains, indian trains, automatic block signal system, bhartiya railway, Delhi, Ghaziabad, Patna, Railway news, भारतीय रेलवे, आईआरसीटीसी, गाजियाबाद, ऑटोमेटिक ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम, यूपी, बिहार, अलीगढ़, कानपुर, लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी, पटना, बरौनी, नॉर्थ-ईस्ट, दूरी और समय में काफी कमी,

भारतीय रेल मिशन मोड पर स्वचालित ब्लॉक सिग्नलिंग की शुरूआत कर रहा है.

रेलवे ने लगाया यह एडवांस सिस्टम
भारतीय रेल मिशन मोड पर स्वचालित ब्लॉक सिग्नलिंग की शुरूआत कर रहा है. एबीएस को 2022-23 के दौरान 268 आरकेएम पर अधिकृत किया गया है. 31 दिसंबर 2022 तक भारतीय रेल के 3706 रूट किमी पर एबीएस की सुविधा प्रदान की गई है. इससे ऑटोमेटिक सिग्नलिंग के कार्यान्वयन से क्षमता में वृद्धि होगी, जिसके परिणामस्वरूप अधिक रेल सेवाएं संभव होंगी.

READ More...  Year Ender 2022: बस अब कुछ ही महीनों की मेहमान है ये पॉपुलर कार! Hyundai बंद कर रही प्रोडक्‍शन

दिल्ली से गाजियाबाद होते प्रयागराज जाना हुआ और आसान
इंडियन रेलवे हाल के वर्षों में परिचालन में डिजिटल तकनीक की मदद से सुरक्षा बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग को अपना रही है. साल 2022-23 के दौरान 347 स्टेशनों पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सिस्टम की सुविधा प्रदान की गई है. अब तक भारतीय रेल के 45.5 प्रतिशत हिस्से को कवर करते हुए 2888 स्टेशनों को 31 दिसंबर 2022 तक इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग की सुविधा दी गई है.

indian railways, railways, trains, indian trains, automatic block signal system, bhartiya railway, Delhi, Ghaziabad, Patna, Railway news, भारतीय रेलवे, आईआरसीटीसी, गाजियाबाद, ऑटोमेटिक ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम, यूपी, बिहार, अलीगढ़, कानपुर, लखनऊ, गोरखपुर, वाराणसी, पटना, बरौनी, नॉर्थ-ईस्ट, दूरी और समय में काफी कमी,

साल 2022-23 के दौरान 347 स्टेशनों पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सिस्टम की सुविधा प्रदान की गई है.

ये भी पढ़ें: नए साल में डॉक्टरों और दवा कंपनियों के गठजोड़ पर मोदी सरकार करने जा रही है सख्ती!

गौरतलब है कि भारतीय रेल नेटवर्क दुनिया के सर्वाधिक बड़े रेल नेटवर्कों में से एक है. देश में हर रोज तकरीबन 13 हजार के आसपास ट्रेनें चलती हैं. यह ट्रेनें देश के अलग-अलग हिस्सों को एक राज्य से दूसरे राज्य और एक जिला से दूसरे जिला को जोड़ती है. भारतीय रेलवे समय-समय पर अपने तकनीक में बदलाव कर दूरी और समय करने पर काम करती है. गाजियाबाद में बना ऑटोमेटिक ब्लॉक सिस्टम भी इसी कड़ी का एक हिस्सा है.

Tags: Bihar train full list, Indian railway, Indian Railway news, Irctc, PATNA NEWS, Prayagraj

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)