lgbt e0a4aae0a58de0a4b0e0a58be0a4aae0a587e0a497e0a482e0a4a1e0a4be e0a4aae0a4b0 e0a4b0e0a582e0a4b8 e0a4aee0a587e0a482 e0a49ae0a581e0a495
lgbt e0a4aae0a58de0a4b0e0a58be0a4aae0a587e0a497e0a482e0a4a1e0a4be e0a4aae0a4b0 e0a4b0e0a582e0a4b8 e0a4aee0a587e0a482 e0a49ae0a581e0a495 1

हाइलाइट्स

रूस ने LGBT प्रोपेगंडा को रोकने के लिए अपनी संसद के निचले सदन में एक नया बिल पेश किया
गैर-पारंपरिक यौन संबंधों और पीडोफिलिया के प्रचार के लिए लगाया जायेगा भारी जुर्माना
विदेशी नागरिकों को 15 दिनों की प्रशासनिक गिरफ्तारी या देश से निर्वासित किया जायेगा

मास्को. रूस ने अपने देश में समलैंगिक और LGBT प्रोपेगंडा को रोकने के लिए अपनी संसद के निचले सदन में एक नया बिल पेश किया है. रूस की न्यूज़ एजेंसी तास की एक रिपोर्ट के मुताबिक रूस की ड्यूमा समिति ने सोमवार को गैर-पारंपरिक यौन संबंधों और पीडोफिलिया के प्रचार के लिए प्रमुख जुर्माना लगाने वाले बिल के दूसरे हिस्से को पारित करने की सिफारिश की है. इस बिल के अनुसार वयस्कों के बीच LGBT प्रचार के लिए चार मिलियन रूबल ($ 65,800) तक का जुर्माना और बच्चों के बीच प्रचार के ऐसे मामलों के लिए पांच मिलियन रूबल ($ 82,200) तक का जुर्माना लगाने की बात की गई है.

विदेशी नागरिकों पर भी होगा लागू
पीडोफिलिया प्रचार के लिए जुर्माना दस मिलियन रूबल ($164,500) तक होगा. कुछ मामलों में, कानूनी संस्थाओं की गतिविधियों को 90 दिनों के लिए निलंबित किया जा सकता है और विदेशी नागरिकों को 15 दिनों की प्रशासनिक गिरफ्तारी या देश से निर्वासित किया जा सकता है. इस बीच, समिति ने सुझाव दिया कि राज्य ड्यूमा ने कंप्यूटर गेम में गैर-पारंपरिक यौन संबंधों के प्रचार के लिए प्रशासनिक दंड लगाने वाले संशोधनों को अस्वीकार कर दिया है.

इसके अलावा, समिति ने सिफारिश की कि राज्य ड्यूमा गैर-पारंपरिक यौन संबंधों और पीडोफिलिया के प्रचार को आपराधिक बनाने वाले किसी भी संशोधन को अस्वीकार कर दे. इन संशोधनों में बार-बार मीडिया और इंटरनेट प्रचार तीन साल तक की जेल की सजा, जबकि मीडिया में पीडोफिलिया प्रचार में पांच साल तक की सजा का प्रावधान किया गया है.

READ More...  जापान: यूनीफिकेशन चर्च ने शिंजो आबे की हत्या से खुद को किया अलग, जानें क्या है पूरा मामला

अक्टूबर में, राज्य ड्यूमा ने रूस में गैर-पारंपरिक यौन संबंधों और पीडोफिलिया के प्रचार पर प्रतिबंध लगाने और उल्लंघन करने वालों के लिए प्रशासनिक दंड पेश करने वाले बिलों का पहला हिस्सा पारित किया था. संबंधित समितियां अब दूसरे हिस्से के लिए दस्तावेज तैयार कर रही हैं.

दूसरा हिस्सा बच्चों के बीच एलजीबीटी प्रचार के लिए प्रशासनिक दंड पर बिल पांच मिलियन रूबल का अधिकतम जुर्माना और वयस्कों के बीच प्रचार के लिए अधिकतम चार मिलियन रूबल तक का जुर्माना प्रस्तावित करता है. पीडोफिलिया प्रचार के दोषियों को दस मिलियन रूबल तक के जुर्माने का सामना करना पड़ सकता है.

Tags: Russia

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)