petrol under gst e0a495e0a587e0a482e0a4a6e0a58de0a4b0 e0a4aae0a587e0a49fe0a58de0a4b0e0a58be0a4b2 e0a4a1e0a580e0a49ce0a4b2 e0a495e0a58b
petrol under gst e0a495e0a587e0a482e0a4a6e0a58de0a4b0 e0a4aae0a587e0a49fe0a58de0a4b0e0a58be0a4b2 e0a4a1e0a580e0a49ce0a4b2 e0a495e0a58b 1

नई दिल्ली. पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने सोमवार को कहा कि केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल को जीएसटी (GST) के दायरे में लाने के लिए तैयार है लेकिन इस पर राज्यों के सहमत होने की संभावना कम है. पुरी ने श्रीनगर में कहा कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के लिए राज्यों की सहमति जरूरी है और अगर राज्य इस दिशा में पहल करते हैं तो केंद्र भी इसके लिए तैयार है.

राज्यों के रेवेन्यू का प्रमुख स्रोत शराब और पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स
उन्होंने कहा, ‘‘हम पहले से ही इसके लिए तैयार रहे हैं. यह मेरी समझ है. हालांकि, दूसरा मुद्दा इसे लागू करने के तरीके का है. उस सवाल को वित्त मंत्री के समक्ष उठाया जाना चाहिए.’’ पीटीआई के मुताबिक, पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की लंबे समय से उठ रही मांग के बीच पेट्रोलियम मंत्री ने इस बात की आशंका जताई कि राज्यों के बीच इस पर सहमति बनने की संभावना कम ही है. उन्होंने कहा कि राज्यों के रेवेन्यू का प्रमुख स्रोत शराब और पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स पर लगने वाला टैक्स ही होता है.

पुरी ने कहा, ‘‘यह समझना अधिक मुश्किल नहीं है कि राज्यों को इनसे रेवेन्यू मिलता है. रेवेन्यू पाने वाला आखिर उसे क्यों छोड़ना चाहेगा? सिर्फ केंद्र सरकार ही महंगाई और अन्य बातों को लेकर फिक्रमंद रहती है.’’

केरल हाईकोर्ट ने मामले को जीएसटी काउंसिल में उठाने का सुझाव दिया था
उन्होंने केरल हाईकोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि इस मामले को जीएसटी काउंसिल में उठाने का सुझाव दिया गया था लेकिन राज्यों के वित्त मंत्री इस पर तैयार नहीं हुए. उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक जीएसटी का सवाल है तो हमारी या आपकी इच्छाएं अपनी जगह हैं, हम एक सहकारी संघीय व्यवस्था का हिस्सा हैं.’’

READ More...  Indian Railways: रेलयात्री ध्‍यान दें, पूर्वोत्‍तर सम्‍पर्क क्रांति, तेजस, अगरतला एक्‍सप्रेस समेत इन ट्रेनों को रेलवे ने क‍िया कैंस‍िल, देखें ल‍िस्‍ट

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में सबसे कम बढ़ोतरी शायद भारत में ही हुई है
पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गिरावट की संभावना के बारे में पूछे जाने पर पुरी ने कहा, ‘‘मैं आपके सवाल से अचंभित हूं. पिछले एक साल में इनकी कीमतों में सबसे कम बढ़ोतरी शायद भारत में ही हुई है. मॉर्गन स्टेनली भी कह रहा है कि भारत दुनियाभर में एक सबसे बेहतर स्थिति में रहा है.’’

उन्होंने कहा कि भारत ने उत्पाद शुल्क में कटौती जैसे कदम उठाकर कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के असर से खुद को बचाए रखा है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं काल्पनिक सवालों के जवाब नहीं देता लेकिन केंद्र सरकार की कोशिश यही होगी कि कीमतें स्थिर बनी रहें.’’

Tags: Diesel, Gst, Hardeep Singh Puri, Petrol, Petrol and diesel

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)